छत्तीसगढ़ की बेटी एमपी पुलिस से मांग रही न्याय

0
164

ससुराल पक्ष दहेज के लिए करते थे प्रताडि़त
शिकायत की तो बच्चे को ले गये साथ
बेटे को मायके लेकर आई तो परिचितों पर दर्ज करा दी एफआईआर

(Amit Dubey-8818814739)
रीवा। छत्तीसगढ़ की राजधानी न्यू राजेन्द्र नगर में रहने वाली प्रिंसी सिंह की शादी 2013 में सीधी जिले के मझौली में रहने वाले लोकेश सिंह उर्फ लकी सिंह के साथ हुई थी, शादी के 5-6 माह के बाद से ही पति और ससुराल पक्ष के लोग उसे दहेज के लिए प्रताडि़त करने लगे, महिला का आरोप है कि उसने इतने दिनों तक परिवार की इज्जत बचाने के लिए कोई शिकायत नहीं की।
रीवा में पढ़ता था बच्चा
महिला का आरोप है कि पति लोकेश , ससुर उपेन्द्र सिंह, जेठ अजय सिंह, सास और चारों ननद व नंदोईयों के द्वारा उसे हमेशा ही दहेज के लिए प्रताडि़त किया जाता था, बच्चे की पढ़ाई को लेकर वह बीते 3 सालों से वह किराये का मकान लेकर रीवा में बेटे शिवांग उर्फ युग के साथ रह रही थी, शादी के बाद से ही ससुराल पक्ष के लोग उसे अपने मायके से दहेज लाने के लिए आये दिन शारीरिक व मानसिक रूप से प्रताडि़त करते चले आ रहे थे।
कमरे में बंद कर पति ले गया बच्चे को
24 नवम्बर को प्रिंसी जब अपने बेटे युग को रीवा स्थित घर में पढ़ा रही थी, तभी उसका पति लोकेश नशे की हालत में घर में घुसा और मारपीट करते हुए मायके से पैसे लाने के लिए बाध्य करने लगा, जब उसने मना किया तो उसे घर के कमरे में बंद करके बेटे युग को लेकर वह वहां से चला गया। घटना के बाद उसने पड़ोस में रहने वाले लोगों को सूचना दी, जिसके बाद रायपुर से परिजन पहुंचे और कमरे का ताला तोड़कर उसे घर से बाहर निकालकर थाना ले गये।
पुलिस ने दर्ज किया था मामला
महिला की शिकायत पर सामान्य थाना पुलिस ने आरोपी पति लोकेश उर्फ लकी सिंह के खिलाफ धारा 498, 294, 506 के तहत मामला दर्ज किया था, मामला दर्ज होने के बाद पति और ससुराल पक्ष के लोग समझौते की बातें कहकर जान से मारने की धमकी दे रहे थे, जिससे महिला काफी भयभीत थी और उसका बेटा भी उनके कब्जे में था।
बेटे को रीवा से रायपुर लाई
प्रिंसी का कहना है कि उसका बेटा युग पिता के पास काफी परेशान था और छोटा भी है, उसने 5 दिसम्बर को रीवा से अपने बेटे युग को रायपुर अपने मायके ले आई, क्योंकि उसे और उसके बेटे को इन लोगों से जान का खतरा था, इतना सबकुछ हो जाने के बावजूद भी एमपी की पुलिस उसका सहयोग नहीं कर रही थी। इस मामले की शिकायत उसने रायपुर के न्यू राजेन्द्र नगर थाने में भी दर्ज कराई है। छत्तीसगढ़ की बेटी ने एमपी पुलिस से न्याय की गुहार लगाई है। महिला का कहना है कि वह रायपुर में अपने घर में है, एमपी पुलिस चाहे तो उससे जांच पड़ताल कर सकती है, वह मामले में सहयोग करने को तैयार है।
रंजिशन फंसाया
प्रिंसी का आरोप है कि उसके ससुराल पक्ष के लोगों ने अपनी आपसी रंजिश के चलते संजय सिंह और पार्षद नम्रता सिंह के खिलाफ सीधी जिले के मझौली थाना क्षेत्र में झूठा मुकदमा दर्ज कराया है, जिसमें स्थानीय पुलिस की भी भूमिका संदिग्ध है, जबकि वह रीवा से अपने बेटे युग को खुद रायपुर लेकर आई है, दोनों ही लोगों का इस मामले से कोई लेना-देना नहीं है। पुलिस जबरन इन लोगों को परेशान कर रही है और झूठा मामला भी दर्ज किया है, महिला ने कहा कि अगर उसकी सुनवाई नहीं होती है तो वह महिला आयोग सहित कोर्ट की शरण में जाने के लिए विवश होगी, जिसकी पूरी जिम्मेदारी पुलिस महकमें की होगी।
इनका कहना है…
मामले की शिकायत मिली है, निष्पक्ष जांच कराई जायेगी, जो भी दोषी होगा, उसके खिलाफ कार्यवाही होगी।
चंचल शेखर
पुलिस महानिरीक्षक
रीवा, रेंज