शकुंतला के सारथी बनें रोहित, सुमित्रा और सैकड़ों कार्यकर्ताओ की टीम, सैकड़ों कार्यकर्ता का रहा अहम योगदान

0
109

(भानु प्रताप साहू)
बलौदाबाजार। जिले की चार विधानसभा सीटों पर 20 नवम्बर को हुए मतदान के बाद अब हर जगह शांति छाई हुई है, कार्यकर्ता और पदाधिकारी आमजनों के साथ मिलकर इस चर्चा में लगे हैं कि किस तरह उन्होंने प्रत्याशी और पार्टी के लिए मेहनत की और किस तरह किस बूथ से कितने वोट दिलवाये, जिससे उनका प्रत्याशी विजयी होगा। जिले सहित सभी विधानसभा क्षेत्र की लगभग सीटों पर कांग्रेस व भाजपा में सीधा मुकाबला रहा, फिर भी कसडोल विधानसभा क्षेत्र की बात करे तो भाजपा प्रत्याशी की वर्तमान और बीते वर्ष की स्थिति पर नजर डाली जाये तो बड़े ही रोचक स्थितियां सामने आती है, कहीं भाजपा के लोग ही भाजपा के लिए चुनौती बने दिखे, तो कहीं जमीनी कार्यकर्ता अंडर ग्राउंड अन्य पार्टी को अपना समर्थन देते नजर आये। यही कारण रहा कि भाजपा कसडोल से अपनी गलतियों के कारण बैकफुट पर खड़ी है। वही कांग्रेस की बात करें तो यहाँ पूरा विधानसभा क्षेत्र के नागरिक, कार्यकर्ता शकुंतला के पक्ष में लगा रहा, जिसमे सभी ने अपनी भागीदारी सुनिश्चित की, और जिम्मेदारी लेकर फर्स से अर्श तक शकुंतला साहू को पहुँचाने में कोई कसर नही छोड़ी। यही कारण रहा कि सभी लोगों ने जनमन तक शकुंतला और पार्टी का झंडा बुलंद किया।
*कसडोल विधानसभा क्षेत्र में इनका रहा विशेष योगदान*
कांग्रेस पार्टी ने जब कसडोल विधानसभा क्षेत्र में सभी कयासों को विराम लगाते हुये शकुंतला साहू पर मोहर लगाई तो यहाँ प्रारम्भ से ही रोहित साहू और सुमित्रा घृतलहरे की टीम ने एड़ी चोटी लगा दी, और शकुंतला साहू के चेहरे को जन-जन तक ले जाने में मुख्य भूमिका निभाई। यही नही इनके अलावा अंकुर समाज सेवी संस्था हेमंत वर्मा, हिमांशु कश्यप, सिद्धार्थ धुरंधर, झड़ी राम कन्नौजे, सुकालू यदु, बाबू खान, यमलोक साहू, लेखराम साहू, बिसौहा गायकवाड़, राधेश्याम बंदे, मोहन कन्नौजे, चूड़ामणि गायकवाड़, टीजकुमार जनस्वामी, महेंद्र वर्मा, महेश्वरी कुर्रे, पार्वती सारथी, महेश ढीढी, शेखर वर्मा, माधव यादव, बसंत चेलक, पदमेश्वरी साहू, वामन टिकरिया, सनत बर्मा, राहुल तेली, शिवराम सेन, संतकुमार साहू, महेश बारले, मंतराम साहू, बिहारी बघमार,  पुनीत साहू, सुनील कुर्रे, संतोष देवांगन, देव प्रकाश सावरा, साधराम साहू, पिंटू वर्मा, लोकेश कन्नौजे, हुमेश्वर गोश्वामी,लखन लाल वर्मा, क्रांति कुमार वर्मा, दयाल सिंह, परमेश्वर पैकरा, नारायण वर्मा, तरुण त्रिपाठी, लाला वर्मा, इंद्रकुमार वर्मा, जीवन घृतलहरे, कमल नारायण राजपूत, कुंदन साव, सनत वर्मा, रामखिलावन वर्मा, पुनीत यादव, प्रकाश वैष्णव, जीवन साहू, प्रेमदास बघेल, मंगलू लहरी,रघुनंदन साहू, सगुन वर्मा, आर.के. जांगडे, सोहन पोटाई, जगदेव भोई, गंगाराम पटेल, संतोष कुमार पटेल, भुवन लाल पटेल, रामकुमार पटेल, मनीराम सेन, तिरथराम पटेल, सनथ कुमार पटेल, ठेलाराम पटेल, पुरूषोत्तम पटेल, लीलागर, प्रहलाद पटेल, श्यामरतन पटेल, उमाशंकर पटेल, तुलसीराम पटेल, दुर्गाप्रसाद चैहान, विनोद पैकरा, दिलहरण यादव, बलराम पटेल, गंगाराम पटेल, मनीष पटेल, सुरेन्द्र कुमार पैकरा सहित
कर्मा सेना से लाल कुमार साहू,जनक साहू, जीवन साहू, राजू (गोपेश्वर साहू), बेद राम, रामपाल साहू, ओम प्रकाश, योगराज, अशोक, धन्नू साहू, पूना राम, सेवक साहू, लोकेश साहू, शिव कुमार साहू, भागवत साहू, धनी राम साहू, सेखु साहू, केहरु साहू, भुवन साहू, लखन साहू, अर्जुन साहू, मनोहर साहू, डेविड साहू, रोहित साहू, धनुष साहू, सोहन साहू सहित सैकड़ों कार्यकर्ताओ का विशेष सहयोग रहा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here